शिवाजी महाराज से जुडी सबसे रोचक बाते | Facts About Shivaji Maharaj in Hindi

0
79
Shivaji maharaj
Shivaji maharaj

ओम बोलने से मन को शांति मिलती है |
साई बोलने से मन को शक्ति मिलती है |
राम बोलने से पाप से मुक्ति मिलती है |
ठीक उसी तरह “जय शिवराय ” बोलने से हमें 100 शेरो की शक्ति मिलती है |
जी हा हम बात करे है हमारे भारत की शान हमारे शेर क्षत्रपति शिवाजी महाराज की |
जिन्होने अपने जीते जी मुग़लो को पाणी पीला दिया था |
जो हमेशा अपने साहस अपनी बुद्धिमत्ता और महान योद्धा के रूप में जाने जाते है |
तो चलिए जानते है क्षत्रपति शिवजी महाराज से  secretmystery.in पर पढ़ रहे है जुडी कुछ ऐसी बाते जिनसे शायद ही आप वाकिफ होंगे |

 

शिवाजी महाराज (Shivaji maharaj) का जन्म 19 फरवरी, 1630 शिवनेरी दुर्ग में हुआ था ,
उनकी माता का नाम जीजाबाई और पिता का नाम शाहजी भोंसले था |

शिवाजी महाराज अपनी माता की हर एक आज्ञा का पालन करते और उनकी माता ने ही उन्हें बचपन
में राजनीति एवं युद्ध की शिक्षा दी थी।शिवाजी के व्यक्तित्व में उनकी मां का असर सबसे ज्यादा दिखाई देता है।
जब कभी लोग शिवाजी महाराज की वीर गाथा गाते है उसमे में भी सबसे पहले उनकी माँ का स्मरण होता है |

शिवाजी महाराज का पूरा नाम शिवाजी राजे भोंसले था लेकिन वो छत्रपति शिवाजी के नाम से मशहूर हुए।

कहते है जिस समय पुरे उत्तर भारत पर मुग़लो का राज था | जिस समय पुरा हिन्दू धर्म खतरे में था |
जिस समय अधिकतर राजाओ ने मुघलो की अधीनता स्वीकार कर ली और ठीक उसी समय भारत की
एक चिंगारी दक्षिण में जल रही थी जिसने भारत के लोगो के मन्न हिन्दू स्वराज के लिए उत्सुकता तयार की
वो थे हमारे राजे शिवाजी राजे |

जब शिवाजी राजे थोड़े बड़े हुए तो उनके पिता ने उन्हें पुणे की जहगीर सोप दी | लेकिन महाराज को
आदिल शाह की गुलामी मंजुर नहीं थी इसलिए गांव के लोगो को इकठा कर अपनी एक सेना बनाना
शुरू कि | शिवाजी महाराज जानते थे इनमे कुछ कर गुजरने का जुनून है इसलिए महाराज न उन्हें
छापा मार युद्ध में कुशल बनाया | और सोला साल के उमर में ही अपना पहिला युद्ध जीता |

और धीरे धीरे कई युद्ध जीतकर उन्होंने अ40 किल्ले जीत लीये लेकिन बाद में कुछ समय बाद ही
बीजापुर की बड़ी साहेबा न अफजल खान को 10हजार सिफाई के साथ शिवाजी को हुक्म दिया |
अफजल खान अपनी क्रूरता और ताकत के लिए जाना जाता था |

उसने शिवाजी को मिलने का नेउत्ता भेजा लेकिन महाराज पहले से ही जानते थे की अफझल खान
कुछ न कुछ साजिश जरूर करेंगा | और जैसे ही वो अफ़ज़ल खान से मिले अफ़ज़ल खान न उन्हें
गले लगाकर मारना चाहताता था और तभी शिवजी ने अपने बाघ नागा से उसका पेट ही फाड़ डाला |
उसके बाद प्रताप गड के किले में शिवाजी महाराज ने अफ़ज़ल खान की सेना को करारी हार देदी |

सन 1660 में आदिल शाह ने अपने सेनापति सिद्धि जोहर को हमला करने भेजा तब पन्हाला किल्ले
को सिद्धि जोहर के सिफाइओ ने 4 और से घेर लिया तब महाराज ने सिद्धिजोहर को मिलने का न्यूता
दिया और जब वो मिले तो आदिल शाह को संदेश secretmystery.in पर पढ़ रहे है भिजवा दिया की सिद्धि जोहर तुम्हारे से गद्दारी कररहा है |
और इसी बिच आदिल शाह और सिद्धि जोहर इनके बिच लड़ाई छिड़ गयी जिसका फायदा उठाकर
शिवाजी महाराज अपने 5000 सैनिक के साथ बहार निकल आए |
और तभ बाजी प्रभु देशपांडे ने मुग़लो को उलझाये रखा जिसे शवजी महाराज वह से
सह कुशल विशाल गढ़ पोछ गए लेकिन बाजी प्रभु देशपांडे की इस युद्ध में प्राणो से हात धोने पड़े |
और आज भी बाजी प्रभु देशपांडे को एक महान योद्धा माना जाता है |

Shivaji maharaj
Shivaji maharaj

फिर शिवजी महाराज का सामना औरंगज़ेब से हुआ |
लेकिन महाराज ने औरंगज़ेब की सेना को भी तहस नहस करड़ाला |
एक बार औरंगज़ेब ने अपने मिर्ज़ा राजा जयसिंग को अपने डेढ़ लाख सैनिक के साथ
शिवजी के साथ युद्ध करने भेजा जिसमे महाराज का पराजय हुआ लऔर उन्हें ओरंगजेब
के पास लेकर जाए लेकिन महाराज ने उन्हें भी चकमा देकर निकल गए |

और आते ही उन्होंने चार महीनो के बिथर अपना बड़ा हिस्सा मुघलो से मुक्क्त करा लिया
उसके बाद भी अफ़ज़ल खान ने कई प्रयास किए लेकिन हर बार पराजय हासिल हुआ |

शिवजी महाराज सिर्फ एक बहादुर राजा ही नहीं बल्कि एक योग्य प्रशासक भी थे
उन्होंने धरम के आधार पर कभी किसी के साथ पक्क्ष बजी नहीं ली
उनके एकै अधिकारी और अंग रक्षक तो मुस्लिम भी थे |यहाँ तक के युद्ध में हारे हुए
दुशमन की बीवी को भी सम्मान के साथ वापस भेज दिया था |

गोरिला युद्ध , और नवेसना का निर्माण शिवजी महराज ने ही किया |
लेकिन 52 साल की उम्र में उनका स्वर्ग वास् होगया |
तब सबको लगा अब मराठा साम्राज्य ख़तम लेकिन  secretmystery.in पर पढ़ रहे है फिर संभाजी महराज ने
साम्राज्य संभाला |

हमें गर्व है हमने ऐसे स्थान में जन्म लिया जहा शिवजी महराज ,संभाजी महराज जैसे
महान पुरुषो ने जनम लिया |
दोस्तों उम्मीद करते है आपको हमारा यहाँ पोस्ट अच्छा लगा होगा |
आने वाले पोस्ट में क्या देखना पसंद करेंगे कमेंट करकेजरूर बताए
तब तब के लिए बाय बाय |

संभाजी महाराज जिसे औरंगजेब भी डरता था | Facts About Sambhaji Maharaj

चाइना को फुंग फु सीखने वाले एक भारतीय थे | Facts about Bodhi dharma

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here